Home LATEST NEWS क्यों मोशन ड्रॉपर छात्रों के लिए सबसे अच्छा है

क्यों मोशन ड्रॉपर छात्रों के लिए सबसे अच्छा है

27 min read
0
0
1,044

मोशन ने हर वर्ष की भांति इस वर्ष भी सर्वश्रेष्ठ सलेक्शन रेश्यो देकर अपने मूल सिंद्धांत “हमारा विश्वास हर विद्यार्थी है खास” को सिद्ध किया है। मोशन हमेशा से ही बेहतर परिणाम देते हुए आया है इस वर्ष भी JEE Main का सलेक्शन रेश्यो  68.99%, JEE Advanced का 36.53%,  NEET का 92.27%  और AIIMS का सलेक्शन रेश्यो 9.02% देकर सफलता का परचम लहराया है। इस सफलता को पाने में अधिकतम रिपीटर्स बैच के विद्यार्थी शामिल है। मोशन की एक विशेषता यह भी है कि यहाँ हर रोज शाम को डाउट काउंटर की सुविधा उपलब्ध करवायी जाती है। यह एक सत्र है जहां शाम के समय हर विषय के लिए कई शिक्षक उपलब्ध होते हैं। कोई भी छात्र वहां किसी भी शिक्षक से, किसी भी कठिनाई के लिए पूछ सकता है। MCQs से लेकर एक पूरा अध्याय संदेह के रूप में शिक्षक आपको समझाते हैं।

रिपीटर या ड्रॉपर बैच  विशेष रूप से 12 उत्तीर्ण छात्रों के लिए  हैं। इस कोर्स में निम्न प्रकार के विद्यार्थी सम्मिलित हो सकते है-

  • वे छात्र जिन्होंने 12 वीं कक्षा उत्तीर्ण की है और पहले इंजीनियरिंग या मेडिकल प्रवेश परीक्षा दे चुके हैं, लेकिन उत्तीर्ण नहीं हुए थे।
  • वे छात्र जिन्होंने ने परीक्षा उत्तीर्ण की, लेकिन कम अंक के कारण अपनी पसंद के संस्थान में प्रवेश नहीं ले पाए।
  • जिन छात्रों को अपनी अपेक्षित रैंक नहीं मिली।
  • वे छात्र जो बारहवीं कक्षा की परीक्षाओं के कारण एक बार भी प्रवेश परीक्षा नहीं दे पाए और वे मेडिकल / इंजीनियरिंग प्रवेश परीक्षा की विशेष तैयारी के लिए एक वर्ष छोड़ना चाहते हैं।

जो छात्र बेहतर परिणाम प्राप्त करने का लक्ष्य रखते हैं और जिनका उद्देश्य प्रवेश परीक्षाओं को क्रैक करने के लिए आवश्यक परीक्षा तकनीकों पर ध्यान देना है वे इस कोर्स में दाखिला ले सकते हैं।

विपरीत परिस्थितियों के बावजूद आदिला का नीट में बेहतरीन प्रदर्शन

आदिला बताती है अगर वह नीट 2019 में इतना अच्छा प्रदर्शन कर पायी तो सिर्फ मोशन की वजह से क्योंकि परीक्षा के नजदीक आते आते डर की वजह से आदिला टेस्ट पेपर्स में अच्छा प्रदर्शन नहीं कर पा रही थी फिर मोशन के निदेशक श्री नितिन विजय ने आदिला को समझाया, उसे प्रेरित किया जिससे की उसका आत्म विश्वास फिर से वापस आ गया। आदिला कहती है की ‘‘यहाँ आने से पहले मै बायोलॉजी में अच्छी नहीं थी और क्वेश्चन सॉल्विंग स्पीड भी बहुत धीरे थी लेकिन यहाँ आने के बाद दोनों ही इम्प्रूव हो गए और मुझे यहाँ की सबसे अच्छी बात मोशन की यह लगती है की यह पर हर बच्चे पर व्यक्तिगत रूप से ध्यान दिया जाता  है

नितिन ने तय किया 350 से 620 अंको का फासला

बैतूल मध्यप्रदेश के रहने वाले छात्र  नितिन खासदेव ने कम अंक आने पर ड्राप लेकर फिर से तैयारी करने का मन बनाया और इसके लिए उन्होंने मोशन को चुना।

नितिन ने बताया पढाई में एक सामान्य छात्र होने के कारण लगा की कोटा जाकर तैयारी करने से भी कुछ नहीं होगा उस पर इतना ध्यान नहीं दिया जायेगा और ना ही वह ऐसा प्रदर्शन कर पायेगा की अपना डॉक्टर बनने का सपना पूरा कर सके।  फिर मोशन के बारे में किसी ने बताया। जैसा की मोशन का सिद्धांत है हमारा विश्वास हर विद्यार्थी है खास उसे देखकर मन में उम्मीद की किरण जागी और कोटा आकर मोशन के क्लासरूम प्रोग्राम में एडमिशन ले लिया। 350 से 620 अंको का फासला तय करना पाना मेरे लिए थोड़ा मुश्किल था, यह सिर्फ मोशन के अध्यापको और यहाँ के  अकादमिक सिस्टम की वजह से संभव हो पाया है।

यदि आप भी ड्राप लेकर अपने सपने को पूरा करना चाहते है या फिर अंको की कमी की वजह से आपको अपना मनचाहा कॉलेज नहीं मिल पाया है तो निराश होने की कोई आवयश्कता नहीं है क्योकि ड्रॉपर्स बनेंगे टॉपर्स सिर्फ मोशन में। अपने ड्राप ईयर के लिए Motion Eduucation Kota में एडमिशन ले और अपनी सफलता पक्की करे।

Comments

comments

Load More Related Articles
Load More In LATEST NEWS
Comments are closed.

Check Also

Hardwork leads to success- JEE Main Jan 2020

एक ‘इच्छा’ कुछ नहीं बदलती, एक ‘निर्णय’ कुछ बदलता है। लेकिन यदि करल…